Friday, February 6, 2015

गेंहूँ की नरवाई से करें मूंग की कुदरती खेती

गेंहूँ की नरवाई से करें मूंग की कुदरती खेती

बिना जुताई की कुदरती खेती में जहां सिंचाई का साधन उपलब्ध है गर्मी की मूंग बहुत सहायक सिद्ध होती है
यह एक और जहां आर्थिक लाभ देती है वहींं खेतों में नत्रजन की मांग को भी पूरा कर देती है। इसका यह कारण है की इसकी जड़ों में नत्रजन (यूरिया ) सप्लाई करने वाले जीवाणु रहते हैं।

इसके लिए हमे गेंहूँ की नरवाई बिना बारीक की हुई की जरुरत रहती है सामन्यत : यह नरवाई हाइवेस्टर से प्राप्त हो जाती है अन्यथा हमे इसे पांव से चलने वाले थ्रेशर की सहायता से प्राप्त करने की जरुरत रहती है।

हम गेंहूँ की कटाई और गहाई  के उपरांत  मूंग के बीजों को  जमीन पर सीधे फेंक कर उसके ऊपर गेंहूँ की नरवाई को  इस प्रकार डाल देते हैं जिस से सूर्य की रोशनी  के सहारे बीज अंकुरित होकर ऊपर आ जाएँ। यदि नरवाई सघन हो जाती है तो बीज बाहर नहीं निकलते हैं।इसलिए नरवाई  प्रकार डालने की जरुरत है जैसे वह स्वम् अपने आप गिर जाती है।

गेंहूँ और धान की फसल नत्रजन (यूरिया ) को खाने वाली फसलें हैं जबकि मूंग नत्रजन देने वाली फसलें रहती हैं दोनों के समन्वय से जैविक खादों की आपूर्ती हो जाती है। मूंग की फसल जब थोड़ी बड़ी हो जाती है । हम उसमे धान की क्ले से बनी  बीज गोलियों को डाल  देते हैं ।  गर्मियों में मूंग पक जाती है।  धान की फसल तैयार होने लगती हैं।

ऋषि खेती में गेंहूँ  की नरवाई और धान की पुआल को जहां का थान लोटा देने से बढ़ते क्रम में फसलें मिलती हैं।  नरवाई एक और जहां बीजों को सुरक्षित करती हैं वहीं वो खरपतवार नियंत्रण और जलप्रबंधन में महत्व पूर्ण भूमिका निभाती हैं। अंत में वह सड़ कर उत्तम जैविक खाद देती है  कारण आगामी फसलों को कोई खाद की जरूरत नहीं रहती है।
नरवाई के ढकाव में फसलों में कोई रोग नहीं लगते हैं उदाहरण के लिए इल्लियां जब आती हैं  भीतर रहने वाली छिपकलियां आदि उन्हें चट  कर जाती हैं।


3 comments:

bhagchand solanki said...

गेंहूँ की नरवाई किसे कहते है ?

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Rajesh Jain said...

सरसों के डंठल एबं भूसे को खेत में फैला कर भी क्या मूँग की खेती संभव है