Monday, August 10, 2015

ऋषि खेती और नदियों का जिए अभियान

"ऋषि खेती" नदियों को पुनर्जीवित करने का अभियान

मारे देश में हजारों सालो से नदियों को पवित्र  मान कर पूजा हो रही है असंख्य लोग हरवर्ष नदियों में   स्नान कर उनकी पूजा करते हैं और जल को अपने घरों में रखते हैं  उनका विश्वाश है इस से एक और जहाँ हमे भगवान मिलते हैं वहीं हमारा स्वास्थ भी ठीक रहता है।

किन्तु अब इस विश्वाश को ठेस लगने लगी है इसका कारण  यह है कि हमारी पवित्र नदियों का अस्तित्व खतरे में पड़  गया है वो मरने लगी हैं। सबसे खराब हालत यमुनाजी की दिल्ली में है वहां ऐसा प्रतीत होता है की नदी है ही नहीं। वह  एक गंदे नाले  में परिवर्तित हो गयी है।
पवित्र नदियां अब मरने लगी हैं। 

असल में हम यह सोचते हैं की बरसात आसमान से आती है किन्तु यह सोच गलत है बरसात हरियाली की देन है हरियाली रहेगी तो बरसात होगी अन्यथा नहीं होगी , किन्तु जबसे औधोगिक खेती का चलन शुरू हुआ है तबसे बहुत तेजी से हरियाली नस्ट हुई है और हो रही है।   इस कारण  मौसम बदल गया है बरसात अनियंत्रित हो गयी है दूसरा कारण यह है की खेती में की जारही जमीन की जुताई के कारण बरसात का पानी जमीन में नहीं जाता है वह तेजी से बहता है अपने साथ खेत की खाद मिट्टी को भी बहा  कर लेजाता है जिसका सीधा असर  हरियाली पर पड़  रहा है और बरसात का पानी जमीन में ना जाकर तेजी से बह जाता है जिस से नदियों को पानी मिलना बंद हो जाता है।
नदियों के मरने का मूल कारण मशीनी जुताई है। 

हम पिछले तीन  दशकों से बिना जुताई की कुदरती खेती कर रहे हैं जिसे हम ऋषि खेती कहते हैं ।  हमारे खेत हरियाली से भर गए हैं। बरसात का पूरा जल जमीन में समां जाता है। जो साल भर भूमिगत झरनो से नदी ,नालो और कुओं को मिलता रहता है।

अपने ऋषि खेती के दीर्घकालीन  अनुभवों के आधार पर हमारा मानना है की यदि हमे अपनी पवित्र नदियों को पुनर्जीवित करना है तो हमे हर हाल में बिना जुताई की खेती को करना होगा। यह सबसे उत्तम जलप्रबंधन की योजना है जिसमे लगत शून्य है।
टाइटस ऋषि खेती फार्म में "यमुना जिए अभियान" दिल्ली  की कार्यशाला

हरियाली से हमे केवल पानी ही नहीं मिलता है वह हमे सांस लेने लायक शुद्ध हवा भी प्रदान करती है।यह दूषित  हवा को सोख कर जैविक खाद बनाती है जिस से हमे जहरीले रसायनो से पूरी तरह मुक्ति मिल जाती है।
हमे कुदरती शुद्ध खाना मिलता है जिस से हम तेजी से पनप रही कैंसर जैसी बीमारियों पर विजय पा सकते हैं।

हमारे पर्यावरण की रक्षा करने की जिम्मवारी हम सरकार पर छोड़ कर सो नहीं सकते हैं इसमें हम सबको मिल कर काम करने की जरूरत है।  नदियों की पूजा का यही मतलब है। 

Sunday, July 26, 2015

थैंक्यू भास्कर

मध्यप्रदेश में सरकारी योजनाओ का लाभ रिश्वत खोरी के कारण  नहीं  मिल रहा है। 

थैंक्यू  भास्कर 

माननीय मुख्यमंत्रीजी ने महिलाओं की शिक्षा के लिए लोन बिना गारंटी के दिलवाने की यजना बनाई है किन्तु यह बिना रिश्वत के नहीं मिलता है।  इस काम के लिए बैंक के अधिकारी हजारों रु की रिश्वत मांगते है। 

ऐसा ही मामला वंदना का है जब इसकी खबर दैनिक भास्कर के माध्यम से आई तब कलेक्टर महोदय और बैंक जागे तब जाकर बिना रिश्वत वंदना को लोन मिला है।  इसके लिए उन्होंने भास्कर को थेंक्यू कहा है। 
सरकार को बैंक अधिकारीयों को दण्डित करने की जरूरत है। 

Tuesday, July 21, 2015

जुताई आधारित खेती के कारण मौसम बदल रहा है अब समस्या एमपी में भी आ गयी है।



जुताई आधारित खेती के कारण मौसम बदल रहा है अब समस्या एमपी में भी आ गयी है। 




कैप्शन जोड़ें

Friday, July 17, 2015

मिनी पंजाब कहलाने वाला तवा (मध्य भारत ) का छेत्र सूखे की चपेट में !



मिनी पंजाब कहलाने वाला तवा (मध्य भारत ) का छेत्र सूखे की चपेट में !

वैज्ञानिक खेती है सूखे का मूल कारण। 

ट्रेक्टर की जुताई सबसे हानिकारक है।