Thursday, July 27, 2017

गाजर घास के भूमि ढकाव में करें ऋषि खेती

गाजर घास के भूमि ढकाव में करें ऋषि खेती 

 
 गाजर घास जिसे पार्थेनियम कहा जाता है , जो कांग्रेस घास  के नाम  से भी जानी जाती है।  यह बहुत बदनाम वनस्पति है इसके पीछे अनेक भ्रान्ति हैं। यह कहा जाता है की इस से अनेक प्रकार की बीमारियां होती हैं। इसलिए अनेक दवाइयां कम्पनिया बना रही हैं। 
 जबकि यह बिना जुताई की कुदरती खेती में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जब खेतों में जुताई नहीं की जाती है तो गाजर घास जैसी वनस्पतियां खेतों को ढँक लेती हैं। क्योंकि धरती माँ असंख्य जीव जंतुओं ,कीड़े मकोड़ों का घर रहती है। इन जैव-विवधताओं को ऐसे ढकाव की जरूरत रहती है जिसमे वो आसानी से पनप सकें। ये जैव-विवधताएँ अपने जीवन चक्र के जरिये खेत में उन तमाम पोषक तत्वों की आपूर्ति कर देते हैं जिनकी हमारी फसलों को जरूरत रहती है। जिसके कारण किसी भी प्रकार की खाद की जरूरत नहीं रहती है।
दूसरा यह अपने नीचे से उन तमाम नींदों को भी साफ़ कर देती है जो हमारी फसलों में अवरोध उत्पन्न करते हैं।
तीसरा गाजर घास की जड़ें खेत की अच्छे से जुताई कर देती हैं इसमें इनका साथ केंचुए जैसे अनेक जीव जंतु देते हैं।
गाजर घास का यह भूमि ढकाव इनके साथरहने वाले पेड़ों को भी बहुत लाभ पहुंचती है उनकी  बढ़वार अच्छी होती है ,नमि का संरक्षण रहता है तथा बीमारियां नहीं लगती हैं। 
इस ढकाव में फसलों को लेने के लिए सीधे या सीड बॉल बना कर बीज डाल  दिए जाते हैं तथा इसे काट कर वहीं बिछा  दिया जाता है।  दूसरा तरीका जो उत्तम है  इन्हे  पांव से चलने वाले
क्रिम्पर से सुला दिया जाता है। इसका  फायदा यह रहता है की गाजर घास एक दम मरती नहीं है जिस से अन्य नींदे नियंत्रित रहते हैं और सोयी हुई गाजर घास तेजी से नमि और पोषक तत्वों को खींचती है जो हमारी फसलों को मिलती है जिस से बंपर उत्पादन प्राप्त होता है।
 गाजर घास को कोई जानवर नहीं खाता है इसलिए इसके लिए फेंसिंग की जरूरत नहीं रहती है। इसके ढकाव में हर प्रकार की फसलें  आनाज ,सब्जियां  ,फल के पेड़ अच्छे पनपते हैं। धन्यवाद 9179738049

Tuesday, July 25, 2017

सीड बॉल से मक्का /बरबटी की खेती

सीड बॉल से मक्का /बरबटी की खेती 

मक्का के सीड बॉल (राजू टाइटस )


ज हम मक्का के सीड बॉल बना रहे हैं ये मक्काकी सीड बॉल हैं। मक्का की यह खासियत यह है की यह खरपतवारो के बीच अच्छी पनपती है बड़ी होकर खरपतवारों से बाहर निकल आती है इसकी हार्वेस्टिंग भी सरल है दूसरा यह आगे की  फसलों के लिए पर्याप्त जैविक पदार्थ भी देती है। यदि हम दुधारू पशु पालते हैं तो मक्का का आधा चारा हम गायों के लिए रख सकते हैं और आधा  हम खेत को लोटा सकते हैं जिस से खेत भी संपन्न होते रहते हैं। आज कल गोशालाओं में रासयनिक खेतों से मिलने वाले सूखे चारे जैसे भूसा और पुआल का उपयोग किया जाता है जो उचित नहीं है है इस से दुधारू पशुओं का स्वास्थ बीडग जाता है और दूध भी पोस्टिक नहीं रहता है। मक्का काटने  से पूर्व खड़ी मक्का में बरबटी के बीजों की सीड बॉल डाल  दी जाती है।  बरबटी एक दलहनी फसल है जो मक्का के बाद उसके जैविक स्ट्रॉ में खूब पनपती है।  यह सब्जी ,दाल और चारे में काम आने वाली और जबरदस्त कुदरती यूरिया बनाने वाली फसल है। ऋषि खेती की सीड बॉल तकनीक में बिना जुताई/ खाद  का यह फसल चक्र बहुत लाभकारी सिद्ध हुआ हुआ है।  धन्यवाद 9179738049
 


 

उर्वरको का उल्टा असर होता है।

उर्वरको का उल्टा असर होता है। 

जुताई नही करने और वनस्पतयों के साथ तमाम जैव विवविवधतायों के पनपने से खेतों में पोषक तत्वों का संचार हो जाता है जैसा कुदरती वनो में होता है। जमीन की उर्वरकता बढ़ाने  वाले सूक्ष्म जीवाणु इसमें अहम् भूमिका निभाते है। जब हम क्ले मिट्टी से सीड बॉल बनाकर डालते हैं तो हम असंख्य जमीन को उर्वरता प्रदान करने वाले सूक्ष्म जीवाणु भी खेत  में डाल  देते हैं जो क्ले में रहते हैं।
असंख्य खेत को उर्वरकता प्रदान करने वाले सूक्ष्म जीवाणुओं वाली क्ले से बनी सीड बाल 

जबकि  रासायनिक उर्वरक उल्टा काम करते हैं जैसे हमारे शरीर में कोई विष या विष्णु के आने से उलटी हो जाती है वैसा ही रासयनिक उर्वरक डालने से होता है जिस से खेत कमजोर हो जाते हैं। सभी रासायनिक उर्वरक जहरीले होते हैं जिन्हे खेत पसंद नहीं करते हैं इसलिए 'उल्टी ' की प्रक्रिया होती है। 9179738049 

Friday, July 21, 2017

बरसात में जब क्ले नहीं मिले तो क्या करें ?

बरसात में जब क्ले नहीं मिले तो क्या करें ?

मै हमेशा यह कहते आया हूँ की क्ले को गर्मियों में इकठा कर पाउडर बना कर उसके सीड बाल बना लेना चाहिए। किन्तु अनेक लोगों को क्ले मिलने और पहचानने में तकलीफ हो रही है इसलिए मेने सलाह दी है की खेत की मेड की मिट्टी जो अनेक सालो से जुताई से बची है जिसमे केंचुओं के घर रहते हैं  को बरसात में ले आएं और उनकी सीड बाल बनाकर बुआई कर ली जाये। किन्तु मेने पाया है की गीली खेत  की मिट्टी अनेक बार इतनी कड़क नहीं रहती जिसे चूहे ना खा सकें इसलिए मेने एक प्रयोग किया है। मेने खेत की मिट्टी में POP(प्लास्टर ऑफ़ पेरिस ) मिलाकर  सीड  बनाये है। POP से सीड बॉल खेत की मिट्टी से अच्छे कड़क बन जाते है और तुरंत सूख जाते हैं।इन्हे जब हम खेत में डालते हैं चूहे नहीं खा पाते हैं ठीक क्ले जैसी कड़क सीड बाल बनाने के लिए हम बरसात में POP का इस्तमाल कर सकते हैं   यह बहुत सस्ता बाजार में मिल जाता है।  यह डिग्रेडेबल पर्या मित्र पदार्थ है। जो क्ले ही है और क्ले की जगह इस्तमाल किया जाता है। जिसका नाम जिप्सम है। यह खाद के लिए भी इस्तमाल होता है।  इसे तीन भाग मिट्टी में एक भाग मिला कर सीड बॉल बनाया जा सकता है।  इसकी सीड बॉल तुरंत सूख कर कड़क हो जाती है जिस से बीज फूल कर खराब भी नहीं होते हैं। खेत में ये सीड बॉल पानी को सोख लेते हैं जिस से बीज फूलकर बॉल को फोड़ लेते हैं और अंकुरित हो जाते हैं।

मुर्गा  जाली से सीड बॉल बनाने के लिए यहां क्लिक करें https://get.google.com/albumarchive/104446847230945407735/album/AF1QipNjehmb859gjXHJE6uqvGkx5WsETSdZH8UOD1cz
 

Thursday, July 20, 2017

ऋषि -खेती शुरू कैसे करें

ऋषि -खेती 

शुरू कैसे करें 

 

ब हम ऋषि खेती जो असल में नेचरल फार्मिंग है जिसे फुकुओका फार्मिंग भी कहा जाता है करते हैं तब हमारा उदेश्य मात्र पैसा कमाना नहीं रहता है। ऋषि खेती वाकई में एक भूमि सुधार योजना है। हम अपनी जमीन को जुताई आधारित खेती के कारण पनपते मरुस्थल से बचा लेते हैं। पहले साल में हमारे खेत हरियाली से भर जाते हैं उसमे कुदरती हवा ,पानी का संचार शुरू हो जाता है। बरसात का पानी जो हर साल बह कर हमारे खेत से निकल जाता था वह  रुक जाता है इस कारण खेत की जैविक खाद का बहना भी रुक जाता है। 

यह सब जानते हैं की फसलों का उत्पादन पूरी तरह खाद और पानी पर निर्भर रहता है  खाद पानी से हमारे खेत भर जाते हैं तो फसलों को तो होना ही है। इसमें हम सीधे बीजों को भी बिखेर सकते हैं। बीजों को सीड बॉल बना कर डालना सबसे सुरक्षित उपाय है।  अनेक फलदार पेड़ों के रोपे  भी लगाते जाते हैं  उदेश्य हमारा अपने खेत को हरयाली से भरना है।  जैसे ही हम जुताई छोड़ते हैं पहली बरसात में हमारे खेत हरयाली से भर जाते हैं ये वनस्पति जो आम भाषा में खरपतवार कहलाती है ऋषि खेती की जान होती है इसको बचाना ऋषि खेती की प्राथमिकता रहती है । इस वनस्पति को हम भूमि ढकाव की फसल कहते हैं जो अपने आप आती है। इसके नीचे असंख्य जीव जंतु , कीड़े मकोड़े ,केंचुए ,सूक्ष्म जीवाणु रहते हैं जो अपने खेत में खाद बना देते हैं। हमारी फसलों को सुरक्षा प्रदान करते हैं। हम इस वनस्पतियों को सीड बॉल डालते हुए अपनी फसलों से बदल देते हैं जिस से ये लुप्त हो जाती हैं। इन्हे मारने से हमारी फसलें दुखी होकर बीमार हो जाती है । 

सीड बॉल की जानकारी केलिए http://rishikheti.blogspot.in/2016/06/blog-post_20.html क्लिक करें। 

राजू टाइटस 

     

 

Saturday, July 15, 2017

शर्करायुक्त (Carbohydrates) आहार से बीमारियां हो रही है !

शर्करायुक्त (Carbohydrates) आहार से बीमारियां हो रही है !

जुताई आधारित हरित क्रांति के कारण बीमारियां हो रही हैं । यह  अनाजों ,आलू और गन्ने जैसे कार्बो के लिए तो  कारगर है जबकि दालों के उत्पादन में फेल है। शर्करायुक्त फसलों में जबरदस्त यूरिया की मांग रहती है जबकि दलहनी फसले कुदरती यूरिया बनाती है। जुताई करने से खेत बीमार हो जाते हैं जिनमे बीमार फसले पैदा होती हैं जो मधुमेह ,मोटापे और कैंसर जैसी बीमारी का मूल कारण हैं।  

 
 

मेने और मेरी पत्नी ने जब से शर्करायुक्त  आहार छोड़ा है तब से हम दोनों स्वस्थ रहने लगे हैं।  मै इन दिनों 71 + और मेरी पत्नी 67 + में है। सब से पहले मुझे मधुमेह  का पता तब चला जब मुझे पहला हार्ट अटैक आया था। डाक्टरों ने बताया  की यह अटैक मधुमेह के कारण है तब ब्लड शुगर 320  था  मुझे स्टंट उपचार निर्देशानुसार करना पड़ा। किन्तु मात्र तीन माह  में मुझे जबरदस्त हार्ट अटैक आया जिसने  मेरा  हार्ट डाक्टरों के अनुसार आधा ख़राब कर दिया जैसा डाक्टरों ने बताया था। यह घटना मेरे परिवार के लिए बहुत बड़े सदमे की थी जिसके कारण मेरी पत्नी को भी शुगर की बीमारी लग गयी इसका पता लगने से हम दोनों मेटफोर्मिन और इन्सुलिन लेने लगे इसके बावजूद मेरी पत्नी को हार्ट अटैक और मुझे पैरालिटिक अटैक आ गया था। 
शर्करायुक्त (Carbohydret)  बंद करने से इस समस्या को रोका जा सकता है यह जानलेवा है। 

फिर  क्या था हम पूरी तरह डाक्टरी इलाज में फंस गए मेरी पत्नी को मल्टी ब्लॉक बताये थे उन्हें बाय पास सर्जरी  सलाह दी गई थी। जो बहुत खतरनाक है हम घबड़ा गए थे। हमारे सामने आगे पहाड़ पीछे खाई वाली स्थिति थी  इस दौरान  निर्णय लिया की हमे बाय पास नहीं करवाना है।  हम दोनों का करीब एक सा रासायनिक इलाज चल रहा था। हम यह जान गए थे हम दोनों को यह बीमारी मूलत: मधुमेह के कारण है। चूंकि मेरी माताजी  +पिताजी + बड़े भाई का निधन समय पूर्व मधुमेह से हुआ था इसलिए चिंतित होना लाज़मी था। 

 किन्तु पिछले अनेक सालो से बिना रसायनो  और बिना जुताई  की ऋषि खेती करने के  कारण  हमे भरोसा था कि  हम कोई न कोई कुदरती इलाज का तरीका खोज लेंगे। इस खोज में हमारे फेसबुक फ्रेंड श्री विपिन गुप्ताजी जो अनेक सालो से बिना दवाई मधुमेह ,मोटापे और थाइरोइड का इलाज कर रहे हैं   ने हमे बताया था की मधुमेह  गेंहू की रोटी छोड़ने से ठीक हो जाती है उन्होंने हमे गेंहू की रोटी छोड़ कर कच्चा और हरा खाने की सलाह दी थी हमने एक माह ऐसा किया था।  जिस से हमने ब्लड शुगर को कम होते देखा था इसलिए हमे भरोसा था की  शुगर हम दोनों की ठीक हो सकती है। चूंकि हमने अपना इलाज जैसा विपिन गुप्ताजी  ने बताया था को जारी नहीं रख सके थे इसलिए हमे यह मुसीबत झेलनी पड़ी थी। 

 इस दौरान हमारी खोज जारी रही हमने पाया की अधिकतर लोग मधुमेह  और मोटापे के लिए शर्करायुक्त आहार को छोड़ने कि सलाह देते हैं। हमने तुरंत अनाजों का सेवन बंद कर दिया  आलू ,शकर शहद भी त्याग दिया। इसके बदले हमने दालों का सेवन जारी रखा साथ में हमने नारियल के आटे ( बूरे )  और चने का आटा ( बेसन ) को मिला कर रोटी बनाकर खाना  शुरू कर दिया।  असल में हम गेंहू की रोटी के आदि हैं इसलिए रोटी जैसा जब तक न मिले तसल्ली नहीं होती है। हमने में वसा युक्त आहार के लिए दही का सेवन जारी रखा साथ में अंकुरित दालों  सेवन  जारी रखा। घर में जो सब्जियां सामन्यत: बनती हैं वो भी चलती रहीं।

हमने पाया की जिस दिन से हमने अपने आहार में बदलाव लाया था उस दिन से ब्लड शुगर बढ़ना बंद हो गई और वह  घटने लगी इस दौरान हमने मेटफोर्मिन और इन्सुलिन जो मधुमेह की आम दवाइयां हैं को भी बंद कर दिया क्योंकि हमारी शुगर लगातार घट रही थी इसलिए हमे शुगर कम हो जाने का खतरा हो गया था।  अटैक के बाद जितनी दवाइयां दी जा रही थीं सब हमने छोड़ दी। 

शर्करायुक्त आहार छोड़ने का एक अतिरिक्त लाभ मेने पाया की मेरा वजन भी घटने लगा जो 90 + करीब एक माह में 73 हो गया और मेरी मेरी पत्नी का वजन जहां का तहाँ रहा पर उनका बी पी भी बिना दवाई के सामान्य  हो गया। हमने ऊपर वाले का बहुत धन्यवाद किया की उसने हमे एक जान लेवा बीमारी से बचा लिया। 

किन्तु हमारी खोज जारी रही की आखिर शर्करायुक्त आहार में ऐसा क्या है जिस से मधुमेह और ब्लड प्रेशर और मोटापा  बीमारियां आम होने लगी हैं । मेरी छोटी बहन भी मोटापे की मरीज थी जिसे थाइरोड बताया गया था वह भी शर्करायुक्त  आहार को छोड़ने से ठीक हो गई है उसका करीब एक माह में 10  किलो वजन कम हो गया है। 

 हमने पाया की  यह खेती के कारण हो रहा है जब खेतों में जुताई की जाती है तो उसकी नत्रजन (कुदरती यूरिया ) गैस बन कर उड़ जाती  है यह नत्रजन असल में शर्करायुक्त फसलों की जान होती है इसलिए जब वह नहीं रहती है तो कृत्रिम रासायनिक नत्रजन (यूरिया ) डाली जाती है। इस से  फसले  पैदा तो  हो जाती है किन्तु उनमे कुदरती ताकत नहीं रहती है।  इसलिए जहां एक रोटी की जरूरत रहती है वहां अनेक रोटी से भी पेट नहीं भरता है। बिना ताकत के आहार से ये बीमारियां होती हैं। किन्तु दालों में अपेक्षाकृत मामला उल्टा है जहां शर्करायुक्त फसले यूरिया मांगती हैं दालें इसके विपरीत कुदरती यूरिया बनाने का काम करती है। 

यह अनुभव  हमे बिना जुताई ,बिना खाद और बिना दवाई की खेती करने से मिला है हम अपने खेतों में पिछले अनेक सालो से दलहनी फसलों और शर्करायुक्त फसलों जिन्हे  सामन्य भाषा में अनाज कहा  जाता है के समन्वय से खेती कर रहे हैं। जिसकी खोज जापान के जाने माने स्व मस्नोबू फुकुओकाजी ने की है। 

हमारे देश में यह समस्या हरित क्रांति के आने के बाद से आयी है। यह क्रांति मूलत: गेंहू ,चावल,आलू  और गन्ने की खेती में ही अधिक सफल रही है दालों की फसलों  में यह इस कारण पीछे है। इसके लिए हम रासयनिक यूरिया से कहीं अधिक दोष खेतों की जुताई को देते हैं। जुताई करने से खेत की एक बार में आधी ताकत नस्ट हो जाती है हर बार यह  नुक्सान होता रहता है। इस कारण खेत बीमार हो जाते हैं। जिस से हम भी बीमार हो जाते हैं। 

हमने यह भी पाया है  कि हमारे शरीर को शर्करायुक्त आहार की कोई जरूरत नहीं है। किन्तु दालों और वसायुक्त  आहार की जरूरत है। किन्तु यदि हम बिना जुताई की कुदरती खेती करते हैं तो हम सब खा सकते हैं। हमने यह भी पाया है की जब तक हम मधुमेह ,मोटापे और अन्य बीमारियों की गिरफ्त में हैं हमे शर्करायुक्त आहार के परहेज की जरूरत है बाद में कम से कम 6 माह के उपरांत हम कुदरती शर्करायुक्त आहार बे खौफ खा सकते हैं। 

इन दिनों ऑर्गनिक की एक और बीमारी तेजी से पनप रही है कहा  यह जा रहा है सब बीमारियां कृषि रसायनो  से हो रही हैं यह गलत है।  असल में खेतों में बीमारियां जुताई के कारण हैं और बीमार  खेतों में बीमार फसलें  होती हैं इसलिए हम बीमार हो रहे हैं।

राजू टाइटस 

कुदरती खेती के किसान 

 

Monday, July 10, 2017

ऋषि खेती से संबधित प्रथापन जी के सवाल और राजू टाइटस के द्वारा जवाब

ऋषि खेती से संबधित प्रथापन  जी के सवाल और राजू टाइटस के द्वारा जवाब 

१-नेचरल फार्मिंग के निम्न सिद्धांत हैं 

१-जुताई नहीं २-खाद नहीं ३-निंदाई नहीं ४- कीटनाशक नहीं ५-फलदार पेड़ों की शाखाओं की छटाईं नहीं
 

२-नेचरल फार्मिंग से पहले 

 कांस घास 
नेचरल फार्मिंग से पहले हम गहरी जुताई से रसायनो और मशीनों से खेती करते थे इसलिए वो मरुस्थल में तब्दील हो गए थे ,कुए सूख गए थे  पेड़ नहीं था  घास हर जगह हो गई थी जिस के कारण खेती करने न मुमकिन हो गया था। 
 
नेचरल फार्मिंग से पहले खेत ऐसे दीखते थे। 
 घास खेतों की जुताई में बाधक रहती है इसकी जड़ें 30 फ़ीट नीचे तक चली जाती है। यह जुताई करने के कारण हो रहे भूमि छरण को रोकने  का कुदरती उपाय है। 
पेड़ो से ढके हमारे खेत 
पहले हमारे खेत सामन्यत: जुताई वाले खेतों की तरह पेड़ों के बिना नजर आते थे।  अब हमारे खेत पूरीतरह पेड़ों से ढक गए हैं।

३-पडोसी खेतों से तुलना 

एक और जहां हमारे खेत पेड़ों से ढके हैं वहीँ हमारे पड़ोसियों के खेत जैसा चित्र में दिख रहा है हरयाली विहीन मरुस्थलों में तब्दील हो गए है। हमारे कुओं में पानी लगातार बढ़ रहा है वहीँ हमारे पड़ोसियों के कुए सूख रहे हैं। 
हमारे खेत रोग निरोग शक्ति वाली फसलों ,फलों ,दूध का उत्पादन कर रहे हैं वहीं पड़ोसियों के खेत जहरीले उतपाद पैदा  कर रहे हैं जिनसे अनेक बीमारियां  हो रही हैं।  

४-मसनेबु फुकुओकाजी  के अनुभवों से मिली सीख 

क्ले से बनी सीड बाल 
 ३० साल पहले हम जब वैज्ञानिक खेती कर रहे थे जुताई खाद दवाइयों और मशीनों के कारण हमारे खेत मरुस्थल बन गए थे। हमें लगातार  आर्थिक ,पर्यावरणीय ,सामाजिक और आध्यात्मिक नुक़्सानो रहा था। हम खेती जिसे शांति का मार्ग समझ रहे थे यह अशांति का कारण बन गई थी। हमे से छोड़ने के बदले कोई मार्ग नहीं बचा था  तब हमे फुकुओकाजी के अनुभवों की किताब "The one straw revolution " पढ़ने को मिली जिसने हमारे सोच को बदल दिया। फुकुओकाजी पहले हिंसात्मक वैज्ञानिक खेती के डाक्टर थे जो बदल कर अहिंसात्मक कुदरती खेती के प्रणेता बन गए थे। उन्होंने  पाया की दुनिया में सबसे बड़ी हिंसा हमारे पर्यावरण की हो रही है जिसमे गैर कुदरती खेती का सबसे बड़ा हाथ है। इसलिए उन्होंने कुदरती खेती का विकास किया जिसमे उनको करीब 30 साल लगे जिसे वे करीब 70 -80 साल तक करते रहे। उन्होंने इस दौरान अनेक किताबे लिखी और अनेक माधयमो से दुनिया को समझाने की कोशिश की इसी दौरान वो हमारे खेतों को देखने भी पधारे थे उन्होंने हमे दुनिया में उनके द्वारा देखे कार्यों में प्रथम स्थान दिया था। 
 
सीड बनाते हम लोग 
दूसरी बार मेरी उनसे मुलाकात गाँधी आश्रम में हुई थी। उस समय वो केवल "सीड बाल "बनाकर बता रहे थे और कह रहे थे सब भूल जाओ पूरी दुनिया गैर कुदरती खेती के कारण मरुस्थल में तब्दील हो रही है हमे इसे बचाने के लिए अब युद्धस्तर पर काम करना पड़ेगा। पनप रहे मरुस्थलों को बचाने के लिए हम क्ले  सीड बाल बनाये और उसे बिखरायें उन्होंने बताया कि  तंजानिया के एक बहुत बड़े गैरकुदरती खेती के कारण बने मरुस्थल को वहां की जन जाती ने सीड बाल से हरियाली में बदल दिया है यदि हम सीड बाल के  विज्ञान और उसके  दर्शन को समझ लेते हैं तो हम आज भी दुनिया में अमन शांति कायम कर सकते हैं। 
 
आज गांधीजी होते तो वो चरखे की तरह सीड बाल बनाने पर जोर देते किन्तु अफ़सोस की बात अब गांधीजी का देश स्वम गैर कुदरती खेती के कारण मरस्थल में तब्दील हो रहा है हमे इसमें ब्रेक लगाने की जरूरत है। 
 

5 -विज़िटर्स ,कार्यशालों और सेमिनार के बारे में 

हम पिछले 30 सालो  से जब से हमने नेचरल फार्मिंग को समझा है और इसे भारत में गैरकुदरती खेती के कारण पनप रहे मरुस्थलों  बचाने के लिए प्राय कर रहे हैं। इस दौरान हमने अनेको लोगों को इसके बारे में बतया है। अनेक लोग हमारे फार्म पर आते हैं जो देशी और विदेशी सभी रहते हैं। अनेक लोग समूहों में आते हैं उन्हें हम कार्यशाला के माध्यम से समझने का काम करते हैं। जो लोग अकेले आते हैं उन्हें हम समझाने के लिए पूरा प्रयास कर रहे हैं। हम इस कार्य को सामजिक और आधात्मिक समझ कर करते हैं जिसका कोई भी शुल्क नहीं लेते हैं।
ऑस्ट्रेलिया  से आये फ्रेंड्स 
 
हमे अनेक लोग भिन्न भिन्न प्रांतों में भी बुलाते है  वहां भी कार्य शाला के माध्यम से नैचरलफ़ार्मिंग करना सिखाने का काम करते हैं।  चूंकि हमारा फार्म भारत में पहले फार्म है हमे लोग रिसोर्स के रूप  आमंत्रित करते हैं हमारे रहने खाने के खर्च भी वो लोग वहां करते हैं।  अनेक ऐसे फार्म है जहां हमने किसानो को खेती करना सिखाया है। जिसके अच्छे परिणाम भी देखने को मिले हैं।
अमेरिका से नौकरी छोड़ कर सीड बाल बनाना सीख रहे हैं देवजी 
फिर भी हम यह कह सकते हैं की अभी यह ऊँट के मुंह में जीरे के सामान है। 
अब जबकि हमारे देश में बल्कि हमारे प्रदेश में असंख्य किसान खेती के कर्जों के कारण परेशान होकर आत्म हत्या करने लगे हैं ऐसी हालत में हमारी सरकारों ने और हमारे न्यायालयों ने हाथ खड़े कर दिए हैं। ऐसे में नेचरल फार्मिंग की पूछ परख बहुत बढ़ गई है।
"सीड बाल " बनाना अब क्रांति का रूप ले रही है अनेक स्वम सेवी संस्थाएं इसके महत्व को समझ कर आगे आने लगी हैं। 
 

6 -सरकार और NGO हमारे फार्म पर कार्यशालाएं आयोजित कर रहे हैं।   


वन विभाग के साथ 
चूंकि हमे अपनी बात समझाने के लिए मॉडल की जरूरत रहती है इसलिए  अधिकतर सरकारी और NGO के लोगों को हम अपने यहां आमंत्रित करते हैं  आकर नेचरल फार्मिंग की जानकारी लेते है। इसी तारतम्य में वन विभाग और आदिवासी विभाग की कुछ कार्यशालाएं यहां आयोजित हुई हैं। ग्रामीण विकास से जुडी अनेक कार्य कार्यशालाएं यहां आयोजित हुई हैं। 


हिमाचल प्रदेश में सीड बॉल बनाते लोग 



 
भारत के करीब हर प्रदेश में हम सेमीनार हेतु बुलाये गए है और बुलाये जा रहे है अनेक लोगों से इसे अपनाया है और अपनाये जा रहे हैं। 
यमुना नगर में स्कूल के बच्चों के साथ बात चीत 
आज कल हमे नेचरल फार्मिंग को नेचर क्योर से जोड़ कर बात करने लगे हैं।  हमारा मानना है कि हमारा पर्यावरण सीधे हमारे स्वास्थ से जुड़ा है और पर्यावरण हमारी खेती से जुड़ा है। हवा  पानी और हमारा भोजन  ठीक रहेगा तो  स्वस्थ रहेंगे। हम स्वस्थ रहेंगे तो हमारा परिवार भी स्वस्थ रहेगा ,समाज और देश स्वस्थ रहेगा।

फ़्रांस से नेचरल फार्मिंग सीखने पधारे मित्र 
 
इसलिए हमारा  मानना है की असली  "शांति की कुंजी हमारे खेतों के पास है "
 
 
 
 
 
 
 
 

7 -विज़िटर्स के द्वारा उठाये गए सवाल 

1 -क्या कारण है नेचरल फार्मिंग के विस्तार नहीं होने का ?
2 -यील्ड में क्या अंतर आता है ?
3 -पड़ोसी किसान क्यों नहीं अपना रहे हैं ?
4 -जापान में क्यों इस विधि को नहीं अपनाया है ? 
5 -भारत में कहीं इस से खाना कम तो नहीं पड़ जायेगा?
ये वो सामान्य प्रश्न है जो हमसे पूछे जाते हैं जिनका अधिकतर का हमारे पास कोई जवाब नहीं है। हम सिर्फ इतना जानते हैं की NF नहीं करने की वजह से आज का किसान बहुत बड़ी मुसीबत में है वो कर्जदार हो गया है। यील्ड कम होती जा रही है। खाने का प्रदूषण बढ़ते क्रम में है। अमेरिका हो या जापान सब खेती किसानी के संकट में फंसे है जिस से बहार निकलने का अब कोई और मार्ग  उन्हें दिखाई  रहा है। कुदरती खाने का अकाल पड़ रहा है। 
 
हमारे अनुभव हमको बताते हैं की आज नहीं तो कल इस खेती के आलावा और कोई मार्ग नहीं है। बिना जुताई और बिना रसायनो की खेती ही भविष्य में रहेगी बाकि सब लुप्त हो जाएंगी। इसके बाद ही अमन और शांति का हमारा सपना पूरा हो सकेगा। 
 

8 -फेमली बैक ग्राउंड ,भरोसा और सिद्धांत 

हमारे परिवार के इन खेतों को हमारे माता पिता और दादाजी ने मिलकर खरीदा था। जो एक क्वेकर परिवार के सदस्य थे। जिसने अपना पूरा जीवन घायल कुदरत  पीड़ित मानवता की सवा में अर्पित कर दिया था।  जिसमे केवल में ही ऐसा बिगड़ा बेटा  निकला जिसने ने इसे दिल से अपनाया है। दुर्भाग्य से हमारे दादाजी माता पिता और बड़े भाई इस दुनिया में नहीं है। किन्तु मेरे परिवार को छोड़ कर सभी बच्चे भाई बहनो के परिवार के  बाहर हैं। मेरी पत्नी और बच्चे इस विधा से बहुत संतुस्ट हैं वो कुदरती खान पान और उस से हमारे शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों को समझ गए हैं। जो इस से दूर नहीं जाना चाहते हैं।  में आशा करता हूँ की एक दिन आएगा जब बाकि हमारे परिवार के सभी बच्चे इस विधा का महत्व समझ कर कर वापस आएंगे जैसे अनेक लोग जो  बड़ी बड़ी नौकरी छोड़कर अपने गाँव वापस लोट रहे हैं। असल में पैसा कमाना सब चाहते है कमा भी लेते हैं पर कुदरत को कमाना असली कमाई है इसका आभास तब होता है जब हमे बीमारियां घेरने लगती हैं और महानगरों के बड़े बड़े डाक्टर हमे नहीं बचा पाते हैं। केवल कुदरत ही हमको बचा सकती है। 
 
हम सब उस ऊपर वाले पर बहुत भरोसा करते हैं दिन रात  अपने और अपने परिवार की अच्छाई के लिए दुआ मांगते रहते हैं किन्तु ऊपर वाला भी उनकी मदद करता है जो उसके दिए इस शरीर का और पर्यावरण की मदद करता है। जो इस दुनिया में आता है उसे एक दिन जाना ही होता है हम भी अब बूढ़े हो गए हैं कल रहे या नहीं रहें किन्तु कुदरत हमेशा जीवित रहती है हमे वही करना चाहिए जो कल हमारे बच्चो के काम आये । ऊपर वाले का दिया यह शरीर भले नहीं रहेगा पर हमारे बच्चों के बच्चे रहेंगे वैसे हमारे खेत उसमे लगे पेड़ हरियाली बच्चे रहेंगे हमे उनकी सेवा कर ऊपर वाले का कर्ज अदा करना है। 
 

9-अन्य जरूरी जानकारी 

ऋषि खेती की फाउंडर सदस्य 
यहां मै एक बात बताना चाहता हूँ की नेचरल फार्मिंग की शुरुवात फ्रेंड्स रूरल सेंटर रसूलिआ होशंगाबाद के क्वेकर सेंटर से हुई है जिसे गांधीवादी क्वेकर स्व मार्जरी साइक्स और गाँधीवादी क्वेकर परताप अग्रवालजी ने  "ऋषि खेती " के नाम से ग्रामीण विकास के लिए शुरू किया था। किन्तु बड़े खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि अब इस सोच का वहां कोई नहीं रहा है इसलिए यह विधा वहां लुप्त हो गई है।  "ऋषि खेती " नाम स्व आचार्य विनोबा भावेजी ने गाँधी खेती के लिए दिया था।  जो गांधीजी के "सत्य और अहिंसा " के सिद्धांतों पर आधारित है।  जब मार्जरी साइक्स जी बीमार हो गई थीं उन्हें इंग्लॅण्ड वापस जाना था उन्होंने बड़े प्रेम से कहा था की  मुझे कोई चिंता नहीं है क्योंकि तुमने इसे अपना लिया है। इसलिए हम आज बहुत प्रसन्न हैं गांधीजी की ऋषि खेती हमारे फार्म पर जीवित है और क़ुदरत की सेवा में  सलग्न है। रसूलिअ सेंटर में "ऋषि खेती "का जन्म मौजूदा हरित क्रांति के विकल्प में हुई थी जो अब मरणासन्न अवस्था में लाखों खेत और किसान भी हरित क्रांति के कारण मरने लगे हैं। देशी कुए ,नलकूप नदी नाले सूखने लगे हैं। बरसात भी अब नहीं हो रही है। इसलिए सब "ऋषि खेती " की और देखने  लगे हैं। 
 
 
यह लेख मेरे दामादजी श्री परम्यू प्रथापन  जी को समर्पित है जो एक सच्चे गाँधीवादी क्वेकर हैं। लिखने में कोई त्रुटि हो तो छमा करेंगे। मेरी बेटी रानू से विनती है की इस लेख को पढ़ कर प्र्थापन जी सुना दें जिस से वो इसका जहां चाहें उपयोग सकें। 
धन्यवाद 
राजू टाइटस 
10-jul-2017
Titus natural farm hoshangabad.M.P.
461001
 

Thursday, June 29, 2017

जुताई के कारण छाया का असर

जुताई के कारण छाया का असर 

दो छोटे छोटे पेड़ों के कारण फसल नहीं हो रही है। 
पेड़ की छाया में बिना जुताई की  गेंहूं की फसल। 

अधिकतर  जुताई करने के दो तरीके हैं एक ट्रेक्टर दूसरा बेलों से जो  खेत में चलाये जाते हैं इसलिए  जितने खेत में पेड़ रहते हैं काट दिए जाते हैं इनके रहते ट्रेक्टर और बैल नहीं चल पाते हैं। दूसरा जब खेत बार बार जाते जाते हैं खेत की जैविक खाद (मिट्टी) बरसात के पानी के साथ बह जाती है इस प्रकार खेत की आधी खाद एक बार की जुताई में बह जाती है। खेत कमजोर हो जाते हैं। कमजोर खेतों में पेड़ की छाया का असर होता है इसलिए किसान दूर दूर तक के पेड़ों को काट देता है। किन्तु हम जो पिछले 30 सालो से बिना जुताई की खेती कर रहे हैं की फसलों पर छाया का असर  नहीं होता है। कृषि वैज्ञानिक भी यही कहते हैं की पेड़ की छाया में फसल नहीं होती है किन्तु वे नहीं जानते हैं की यह जुताई का असर है। 

 
 

Tuesday, June 27, 2017

गौ आधारित खेती

  गौ आधारित खेती

हम गौ आधारित खेती का बहुत सम्मान करते हैं हमारा देश गौ आधारित  खेती के कारण हजारों साल बचा रहा है।  पहले किसान जुताई की  हानि के प्रति सतर्क रहते थे जुताई से कमजोर होते खेतों में जुताई बंद कर उन्हें पड़ती कर उसमे पशु चराते थे जिस से खेत ठीक हो जाया करते थे। साल के आखिर में सभी कृषी अवशेषों को वापस खेतों में डाल  दिया करते थे। खाद और दवाइयों  का कोई इस्तमाल नहीं था। 

जीरो बजट खेती भी  गाय आधारित खेती है किन्तु जुताई है जो गलत है जुताई  करने से खेत की जैविक खाद बरसात के पानी के कारण बह जाती है उसकी कुदरती यूरिया भी  गैस बन कर उड़ जाती है इसलिए हमारी सलाह है की गौ आधारित खेती में भी जुताई नहीं होना चाहिए और गायों के लिए सुबबूल जैसे चारे के पेड़ होना  जरूरी है। 
  जब हम बिना जुताई करे दलहन फसलों के साथ अनाज की खेती करते हैं उसमे अपने आप कुदरती यूरिया का संचार हो जाता है क्योंकि  दलहन जाती का पौधा या पेड़ अपनी छाया के छेत्र में कुदरती यूरिया देने का काम करता है।  हमने  पाया है की बिना जुताई की खेती में खेत में कुदरती यूरिया की मांग नहीं रहती है और यदि उसमे कृत्रिम यूरिया दिया जाये तो उलटी हो जाती है यानि सब बाहर निकल जाता है। जिस से खेत और अधिक कमजोर हो जाते हैं। 
 
धन्यवाद 
राजू टाइटस 
917973 8049 
 
 

देशी बबूल

देशी बबूल 

देशी बबूल एक द्विदल कांटे वाला पेड़ है ऋषि खेती में इसका विशेष महत्व है। यह जमीन से जितना ऊपर होता है अपनी छाया  के छेत्र में लगातार कुदरती यूरिया सप्लाई करने का काम करता है। यदि इस पेड़ को एक चौथाई एकड़ में १० पेड़ों के हिसाब से स्थान मिल जाये तो खेत को कभी भी गैर कुदरती यूरिया की जरूरत नहीं पड़ेगी। बिना जुताई की कुदरती खेती में यह बहुत महत्व का पेड़ है।  यह अपने आप खेतों में पनपता रहता है किन्तु जुताई करने वाले किसान इसे काटते और मारते रहते हैं। उन्हें छाया  का डर रहता है।  यह पेड़ जब एक बार ऊग  जाता है आसानी से मरता नहीं है इसमें कांटे रहते हैं। इस कारण यह मवेशियों से बचे रहते हैं। 

 

हम इस पेड़ की सीड बाल बनाकर यहां वहां फैलाते जा रहे हैं जो किसान बिना जुताई की कुदरती खेती करना चाहते हैं वे इन पेड़ों से दुश्मनी छोड़ कर इन्हे अपना लें  यह हमारे मवेशियों और हमारे खाने पीने की समस्या को हल कर देंगे। इनके साथ गेंहूं चावल की खेती आसानी से हो जाती है। 

धन्यवाद 

राजू  टाइटस 

917973 8049 

NATURAL FARMING IN BANKHDI HOSHANGABAD

भाई मानसिंह गुर्जर बनखेड़ी होशंगाबाद ने किया कमाल गेंहूं के बाद उपजाया बिना जुताई के कुदरती मूंग और वे अब बरसात की फसल भी बिना जुताई से कर रहे हैं वे पिछले  तीन साल से बदलाव के रास्ते पर हैं। उन्होंने तीन साल पहले रसायनो  का त्याग कर दिया है और इस गर्मी की मुंग के बाद वे  जुताई की खेती में आ गए हैं हम उनके जज़्बे को सलाम करते हैं। उन्होंने रबी में भी बिना रसायन की चने की फसल प्राप्त की है। जो कोई बिना रासयन की फसल खरीदना चाहते हैं उनसे संपर्क कर सकते हैं। उनका मोबाइल न 9752324676 है। 

 
 
 

Monday, June 26, 2017

प्रहलाद सिओल चौधरी राजस्थान के सवाल और जवाब

 

प्रहलाद सिओल  चौधरी राजस्थान के सवाल और जवाब 

 
 
 
Prahlad Seoul Choudhary प श्रीमान जी किन किन फसलों का सीड बॉल बनाया जा सकता है हम बारिश के मौसम में बाजरा सर्दियों के मौसम में उनके गेहूं फिर गर्मियों के मौसम में बाजरा साथ में मूंग मोठ और तिल सबसे अधिक फसल लेते हैं इस विषय विधि में इन फसलों को कब-कब कैसे-कैसे में सिंचाई के रूप में मैं ड्रिप और स्प्रिंकलर पद्धति काम में लेता हूं मैं इस विधि को मेरे खेत में शुरू करना चाहता हूं काफी अध्ययन के बाद में भी शुरू कहां से करूं अभी पूरा समझ नहीं पाया हूं कृपया और मार्गदर्शन करने का कष्ट करावे
Prahlad Seoul Choudhary मैं मेरे खेत एक भाग में अनार का बगीचा और सब्जी की खेती करना चाहता हूं अनार व सब्जी दोनों एक साथ में कैसे हो सकती है मैं पालेकर जी का 5 स्तरीय मॉडल भी अध्ययन कर रहा हूं मुझे इस कुदरती विधि में सब्जी व अनार साथ में कैसे हो उनके लिए पोषण की व्यवस्था कैसे हो इसकी जानकारी भी देने का कष्ट करावे
अनार के पौधे कुदरती रूप से कहां से मिल सकते हैं अनार कटाई और सफाई किस प्रकार से हो या नहीं करनी हो अगर कोई किसान भाई सब्जी व अनार के साथ में कोई खेती कर रहा हो तो उनका फॉर्म भी देखना चाहूंगा
Reply
 
 
 

NATURAL FARMING IN RAJASTHAN SANTOSHSINGH RATHORE

Image may contain: tree, sky, plant, outdoor and natureSantoshsingh Rathore पानी न तो आसमान से आता है न ही यह धरती से आता है पानी तो केवल हरियाली से आता है। जुताई  वाली खेती की सभी विधियां हरियाली की दुश्मन है। इसलिए सुखपद रहा है। 
 
राजस्थान के नागौर के रहने वाले भाई संतोष सिंह जी को हम सलाम करते हैं की उन्होंने बिना जुताई की कुदरती खेती को अमल में लाने का निर्णय ले लिया है।  
ऋषि खेती होशंगाबाद एक उदाहरण है जिसने ३० साल में एक बार भी जुताई नहीं की है कुए जो सूख गए थेअब भरे रहते हैं जबकि हमारे पड़ोसियों के नलकूप भी सूख रहे हैं। संतोष भाई आपके खेत दिखा रहे हैं उसमे अभी भी अनेक पेड़ हैं इनके बीज इकठ्ठा कर सीड बॉल बनाकर बिखराते जाएँ।  शुरू में जहां तक संभव हो दलहन फसलों के साथ साथ ,पेड़ सब्जियां भी लगाते जाइये। 
अब आपको किसीभी प्रकार की खाद और दवाई की जरूरत नहीं पड़ेगी। अपने साथी किसानो भी आप प्रेरणा के स्रोत रहेंगे। आप का निर्णय आपके गाँव के लिए वरदान सिद्ध होगा।  हम आपकी मदद का वायदा करते हैं। ऋषि खेती तकनीक "कुछ मत करो "  सिद्धांत पर चलती है। 
धन्यवाद 
राजू टाइटस                        
917973 8049  

Sunday, June 25, 2017

सवाल और जवाब Ankush Madanwad

सवाल और जवाब

Ankush Madanwad में भी किसान को ऋषी खेती के बारे मे बताता हूं
और खेत मे सबबूल लगाकर आप सम्रुध्दी ला सकते हो पर यहां के किसान सबबूल को शाप मानते हे जितने भी सबबूल के पेड काट देते है। 


असल मे किसान जब खेतों की जुताई करते हैं तो उन्हें छाया में अच्छी फसल नहीं मिलती है जुताई करने से खेत कमजोर हो जाते हैं कमजोर खेतों में थोड़ी भी छाया आ जाये तो फसलें  नहीं होती है इसलिए किसान डर के मारे पेड़ों को काटते रहते हैं। जबकि सुबबूल अपनी छाया के छेत्र  में लगातार यूरिया बनाने का काम करता है।  यह भ्रान्ति खेती के डाक्टरों के द्वारा फैलाई गयी है। 

swal or jwaab


 
Khatri Saluja Narinder गुरु जी हमारी मन: स्थिति अर्जुन समान है। सवाल ही सवाल उठते रहते हैं। कल जब मैंने मेरे प्रिय किसान मित्र श्री NarenderLather जी को ऋषि खेती के विषय में बताया तो उनका सवाल था कि यदि निराई गुड़ाई नहीं की तो सारे पोषक तत्व खरपतवार ग्रहण कर लेंगे जिस वजह से फसल का उत्पादन घटेगा।

इस सवाल के जवाब में हमे कुदरती वनो की और देखने की जरूरत है जहां कोई जुताई  नहीं करता है ना ही कोई खाद डालता है फिर भी सब वनस्पति मित्रता के साथ आपस में मिलकर रहते हैं। फ़ोटो: DO NOTHING FOR TREES. NO PRUNING,NO CLEANING,NO USING ANY DRY MULCH OR FERTILIZERS(ORGANIC OR IN ORGANIC). GREEN COVER OF CLOVER OR ANY VEGETABLE IN THE AREA OF SHADE OF TREE IS REQUIRED.इस चित्र को देखें फल के पेड़ के साथ असंख्य वनस्पतियां भी हैं ये फल  के पेड़ की दोस्त हैं। इनका आपस में सहयोग रहता है निंदाई गुड़ाई से नुक्सान होता है जैसा नागपुर के संतरों के बगीचे नस्ट हो रहे हैं। 

खत्री नरेंद्र सलूजा का बनता नेचरल फार्म

खत्री नरेंद्र सलूजा का बनता नेचरल फार्म 

Image may contain: sky, outdoor and nature असली निर्णय जुताई नहीं करने का होता है जो आपने ले लिए है इसलिए आप बधाई के पात्र हैं।  इस से न केवल आप अपने परिवार को गुणकारी खाना पानी उयलब्ध करयायेंगे वरन पूरे गाँव को एक नवीन  दिशा प्रदान करेंगे। इस से बड़ी कोई सेवा नहीं है। इसमें भला आपने जो कुछ भी बोया हो आप नियमित "सीड बाल " बनाकर बिखराते जाइये। 
 
आपके परिवार में या गाँव में कोई बीमार  है तो उन्हें गेंहू ,चावल ,आलू और शकर का परहेज करवायें उन्हें नारियल के आटे  और बेसन की रोटी खाने की सलाह दीजिये। इस से वे ठीक हो जायेंगे। अधिकतर लोग यूरिया के खाने से बीमार हो रहे हैं। 
धन्यवाद
राजू टाइटस 
917973 8049  
 

धर्मेंद्र पाल सिंह जी किसान को ऋषि खेती की सलाह

 

धर्मेंद्र पाल  सिंह जी किसान को ऋषि खेती की सलाह 

प्रियमित्र ,
Image may contain: sky, plant, grass, tree, outdoor and natureआपके खेत जुताई के कारण मरुस्थल में तब्दील हो रहे हैं इन्हे बचाने का एक मात्र उपाय है जुताई बंद कर  हरियाली से भरना। इस खेत में बबूल के पेड़ दिखाई दे रहे हैं ये देवता समान है इनके  बीज इकठा कर "क्ले से सीड बाल "बना कर बिखराते जाएँ। साथ में जितनी खरपतवार आती हैं  उसे भी बचाते जाएँ।  जो कुछ आपको बोना है उसके बीज भी सीधे या सीड बाल बनाकर बिखराते जाएँ। 
पहली बरसात में आपके खेत की धरती माँ जो बेहोश हो गई है आंखे खोल देंगी। बरसात का पानी जो अभी बहकर खेतों से बाहर जा रहा है  रुक जायेगा भूमि छरण और जैवविविधताओं का हरण भी रुक जायेगा। आपको कुदरती फसलें मिलने लगेंगी। 
बबूल के पेड़ अपनी छाया के छेत्र में लगातार कुदरती यूरिया बनाते है इनके बीज बड़ी मात्रा में सीड बाल से डालें। 
धन्यवाद 
राजू टाइटस 
917973 8049 
 
 
 
 

Saturday, June 24, 2017

राजेश भाई नमस्कार ,

राजेश भाई नमस्कार ,

इस खेत में जुताई और खादों का इस्तमाल हुआ होगा। इसमें बिना जुताई की कुदरती खेती आसानी से शुरू की जा सकती है। टमाटर के पौधे और वनस्पतियां इसमें भूमि ढकाव का काम करेंगी असंख्य जीव जंतु कीड़े मकोड़े जीव जंतु सूक्ष्मजीवाणु इसमें पनप जायेंगे।  बिना मिटाये सीधे या सीड बाल बनाकर जो भी आप बोना चाहते है बो सकते हैं। यदि आप इसमें टमाटर ,बेंगन या मिर्च लगाना चाहते हैं तो रोप बना कर लगते जाएँ ये कवर खरपतवार नियंत्रण ,नमिके संरक्षण और बीमारियों की रोक थाम में मदद करेगा जो स्वत्: सड़ कर खाद में तब्दील हो जायेगा। साथ में मुंग के बीज भी छिड़कने जरूरत है मुंग घासों और को रोकेगा और कुदरती यूरिया बनाएगा। 

 

 

Wednesday, June 21, 2017

आदिवासी समूह तेजश्वनी के साथ दो दिवसीय कार्यशाला 1 8 -1 9 जून 2017 


यह कार्य शाला डिंडोरी जिले के आदिवासी विभाग के द्वारा जैविक खेती को समझने के लिए हमारे फार्म पर आयोजित की गयी थी। इसमें ९महिलायें और १० पुरुष थे।  इन सभों पर अपने अपने छेत्र में जैविक खेती के प्रचार प्रसार का भार है। इन लोगों को असली जैविक खेती की जानकारी हेतु हमारे फार्म पर लाया गया था। चूंकि हमारा फार्म  पिछले ३० सालो से बिना जुताई की कुदरती खेती(असली जैविक खेती ) का अभ्यास कर रहा है। जिसे हम ऋषि खेती कहते हैं।

ऋषि खेती से तात्पर्य यह है की हमारे ऋषि जन जंगलों में रहते थे अपने पर्यावरण को बिना बिगाड़े अपना जीवन यापन करते थे। किन्तु जब से हमारे देश में "गेंहूं क्रांति " आयी है।  हमारा पर्यावरण नस्ट हो गया है। इसलिए हम अब कुदरती हवा ,पानी और आहार की कमी में जी रहे हैं। इस बात को अब सरकार भी समझने लगी है इसलिए जैविक खेती के नाम से एक सुधार योजना लाई गयी है जिसका हम स्वागत करते हैं।

जैविक का मतलब है" कुदरत " यानि हमारा पर्यावरण जिसे हमे पुन: जीवित करना है। खेती माध्यम है जिस रास्ते  से हमने अपने पर्यावरण को बिगाड़ा है हमे उसी रास्ते से इसे ठीक करना है। हमने यह पाया है फसलोत्पादन के लिए की जा रही जुताई का इसमें बहुत बड़ा हाथ है। किसान पेड़ों को काटकर खेत बना रहे हैं और जुताई कर खेतों को मरुस्थल कर छोड़ते जा रहे हैं।

हरियाली की कमी के कारण बरसात कम हो जाती है जुताई करने से बरसात का  पानी जमीन में सोखा नहीं जाता है। भूमिगत जल की कमी हो जाती है जिसका सीधा प्रभाव खेती और आजीविका पर पड़ता है। डिंडोरी का आदिवासी छेत्र इसके उदाहरण है।  अब जुताई को छोड़कर हरियाली को बढ़ाने पर जोर देने के सिवाय कोई उपाय नहीं है। इस काम  को करने में ऋषि खेती तकनीक सर्वोत्तम है।

ऋषि खेती तकनीक खरपतवारों और पेड़ों को बचाते  हुए उनके समनवय से सम्पन्न होती है। इसके लिए हम सभी प्रकार के बीजों को जिसमे जंगली ,अर्ध जंगली फलदार पेड़ ,आनाज सब्जी चारे आदि के बीजों को मिला कर क्ले मिट्टी से सीड बाल बनाकर बिखराते जाते हैं। साथ में जुताई ,मानव निर्मित खाद और दवाइयों को पूरी तरह बंद कर देते हैं।
Image may contain: 1 person, sitting
हमने पाया है की एक बरसात में में हमारे खेत हरियाली से भर जाते हैं। दुसरे साल इसमें अपने आप अनेक झाड़ियां और पेड़ पनपने लगते हैं जिस से हमे फसल हमारे पशुओं के लिए चारा मिलने लगता है। मरुस्थली खेत हरियाली में परिवर्तित हो जाते हैं। भूमिगत जल का स्तर उठने लगता है। बरसात भी ठीक से होने लगती है।

इस पूरी कार्य शाला में इस बात को समझाने की कोशिश की गयी है जिसे प्रतिभागियों ने बड़े ध्यान से समझा है उन्होंने सीड बॉल बनाये हैं उन्हें खेत में बिखराया है। इसलिए हमे उम्मीद है की यह "जैविक खेती का मिशन " यदि चलता है तो मात्र कुछ सालो  में डिंडोरी आदिवासी अंचल पूरे देश में चल रही खेत और किसानो की समस्या को हल करने वाला गुरु हो जायेगा।

यह काम आप जैसे आमआदमी ही कर सकते हैं इसमें हम अपना पूरा सहयोग करने का वायदा करते हैं।

धन्यवाद

राजू टाइटस
होशंगाबाद


 

Friday, June 9, 2017

खरपतवारें बहुत उपयोगी हैं !

खरपतवारें  बहुत उपयोगी हैं !

रपतवारों को मारते समय  इन महत्वपूर्ण बिंदुओं को याद रखना उचित होगा।
जैसे ही भूमि की जुताई करना बंद कर दिया जाता है, खरपतवार की मात्रा बहुत घट जाती हैं कहीं तो वो बहुत कम हो जाती हैं।
पिछली फसल को काटने के पूर्व ही यदि नई फसल के बीज बो दिए जायेंगे तो इस फसल के बीज खरपतवार के पहले अंकुरित हो जाएंगे।
 रबी  की खरपतवारों  के बीज खरीफ की चावल की फसल के काटने  के बाद ही अंकुरित होते हैं , लेकिन तब तक रबी  की गेंहूँ /सरसों  काफी बढ़ जाती है।
इसी प्रकार गर्मी की  खरपतवार गेंहूँ  और सरसों की फसले कटने के बाद अंकुरित होती  है, लेकिन उस समय तक अगली  फसल काफी  बढ़ चुकी होती है । बीजों की बोनी इस ढंग से करें कि दोनों फसलों के बीच के अंतर न रहे। इससे अनाज के बीजों को खरपतवार से पहले ही अंकुरित हो, बढ़ने का मौका मिल जाता है।
फसल कटनी के तुरंत बाद खेतों में पुआल/नरवाई आदि को फैला देने से खरपतवार का अंकुरण बीच में ही रुक जाता है। अनाज के साथ ही भूमि आवरण के रूप में सफेद क्लोवर  भी बो देने से खरपतवार को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।
खरपतवार की समस्या से निपटने का प्रचलित तरीका मिट्टी को जोतने। खोदने  का है, लेकिन जब हम ऐसा करते हैं तो मिट्टी के भीतर  गहरे बैठे हुए, वे बीज, जो वैसे अंकुरित नहीं हुए होते, सजग होकर अंकुरित हो उठते हैं। साथ ही तेजी से बढ़ने वाली किस्मों का इन परिस्थितियों में बढ़ने का बेहतर मौका मिल जाता है। अतः आप कह सकते हैं कि जो किसान जमीन की गहरी जुताई  करके खरपतवार को काबू में लाने का प्रयत्न करता है, वह वास्तव में अपनी मुसीबत के  बीज बो रहा होता है।
जहरीले कीटनाशकों का उपयोग
मेरे ख्याल में अब भी कुछ लोग ऐसे होंगे जो सोचते हैं कि यदि उन्होंने रसायनों का उपयोग नहीं किया तो उनके फल वृक्ष तथा फसलें,  देखते-देखते मर  जाएगी। जब कि सच्चाई यह है कि इन रसायनों का ‘उपयोग करके ही’ वे ऐसी परिस्थितियां निर्मित कर लेते हैं  कि उनका  भय साकार हो जाता है।
हाल ही में जापान में लाल देवदार वृक्षों की छाल को घुन लगने से भारी क्षति पहुंची रही हैै। वन अधिकारी  इन्हें काबू में लाने के लिए हेलिकाप्टरों के जरिए दवाओं का छिड़काव कर रहे हैं। मैं यह नहीं कहता कि अल्प समय के  लिए इसका सकारात्मक असर नहीं होगा। मगर मैं जानता हूं कि इस समस्या से निपटने के लिए एक और भी तरीका है।
आधुनिक शोध  के मुताबिक घुन का संक्रमण प्रत्यक्ष न होकर मध्यवर्ती गोल-कृमियों के बाद ही होता है। गोलकृमि तने में पैदा होकर, पोषक तत्वों व पानी के बहाव को रोकते हैं, और उसीसे देवदार मुरझा कर सूख जाता है। बेशक, इसका असली कारण अब तक अज्ञात है।
गोल कृमियों का पोषण वृक्ष के तने के भीतर लगी फफूंद से होता है। आखिर पेड़ के भीतर यह फफूंद इतनी ज्यादा कैसे फैल गई? क्या इस फफूंद का बढ़ना, गोल कृमियों के वहां आने के बाद शुरू हुआ? या गोल कृमि वहां इसलिए आए कि वहां फफूंद पहले से थी? यानी असली ससवाल  घूम-पिफरकर यहीं आकर ठहरता है कि पहले क्या आया? गोल कृमि या फफूंद?
एक और भी ऐसा सूक्ष्म जीवाणु है, जिसके बारे में हम बहुत कम जानकारी रखते हैं, और जो हमेशा फफूंद के साथ ही आता है, और वह फफूंद के लिए जहर का काम भी करता है। हर कोण से प्रभावों
और गलत प्रभावों का अध्ययन करने के बाद निश्चयपूर्वक केवल एक यही बात कही जा सकती है कि देवदार के वृक्ष असाधरण संख्या में सूखते जा रहे हैं।
लोग न तो यह जान सकते हैं कि देवदार की इस बीमारी का असली कारण क्या है, और न उन्हें यह पता है कि उनके ‘इलाज’ के अंतिम परिणाम क्या होंगे। यदि आप बिना सोचे-समझे प्रणाली से छेड़-छाड़ करेंगे तो आप भविष्य की किसी अन्य विपदा के बीज बो रहे होंगे।
  मुझे अपने इस ज्ञान से कोई खुशी नहीं होगी कि गोल कृमियों से होनेवाली तात्कालिक हानि को रासायनिक छिड़काव के जरिए कम कर दिया गया है। इस तरह की समस्याओं को, कृषि रसायनों का उपयोग करते हुए हल करने का यह तरीका बहुत ही गलत  हैं इससे भविष्य में समस्याएं और भी विकट रूप ले लेेंगी।
प्राकृतिक कृषि के ये चार सिद्धांत जुताई नहीं ,निंदाई नहीं, कोई रासायनिक उर्वरक या तैयार की हुई खाद नहीं, रसीनो का कोई उपयोग नहीं  प्रकृति के आदेशों का पालन करते हैं तथा कुदरती सम्पदाओं की रक्षा करते हैं।मेरी कुदरती खेती का यही मूल मन्त्र है । अनाज, सब्जियों और फलों की खेती  सार यही है।

खरपतवारों के संग  गेंहूँ /सरसों /चावल और फलों की खेती 
इन खेतों में अनाज और क्लोवर   के साथ कई विभिन्न प्रकार के खरपतवार भी उग रहे हैं। खेतों में जो धान  का पुआल पिछली पतझड़ के मौसम में बिछाया गया था, वह सड़कर अब बढि़या जैविक खाद  में बदल गया है। पैदावार प्रति चैथाई एकड़ एक टन (एक किलो / वर्ग मीटर ) होने की संभावना है।
घास के  विशेषज्ञ प्रोफेसर कावासे तथा प्राचीन पौध  पर शोध् कर रहे प्रोफेसर  ने कल जब मेरे खेतों में गेंहूँ  और हरे खाद की महीन चादर बिछी देखी तो उसे उन्होंने कलाकारी का एक खूबसूरत नमूना कहा। एक स्थानीय किसान, जिसने मेरे खेतों में खूब सारी खरपतवार देखने की उम्मीद की थी, उसे यह देखकर घोर आश्चर्य हुआ कि कई अन्य तरह के पौधें के बीच गेंहूँ  और सरसों  खूब तेजी के साथ बढ़ रही है । अनेक  विशेषज्ञ भी यहां आए हैं और उन्होंने भी खरपतवार देखी, चारों ओर उगती क्लोवर  और खरपतवारों को देखा  और अचरज से मुंडी  हिलाते हुए यहां से चल दिए।
बीस साल पहले जब मैं अपने फल-बागों में स्थाई भूमि आवरण उगाने में लगा था, तब देश के किसी भी खेत या फल-बाग में घास का एक तिनका भी नजर नहीं आता था। मेरे जैसे बागानों को देखने के बाद ही लोगों की समझ में आया कि फलों के पेड़, घास और खरपतवार के बीच भी बढ़ सकते हैं। आज, नीचे घास उगे हुए फलबाग आपको जापान में हर कहीं नजर आ जाएंगे तथा बिना घास-आवरण के बागान अब दुर्लभ हो गए हैं।
यही बात अनाज के खेतों पर भी लागू होती है। चावल, गेंहूँ  तथा सरसों  को, सारे साल भर, क्लोवर  और खरपतवार से ढंके खेतों में भी मजे से उगाया जा सकता है।
इन खेतों में बोनी और कटनी की कार्यक्रम सूची की मैं जरा विस्तार से समीक्षा करना चाहूंगा। अक्टूबर के प्रारम्भ में, कटनी से पहले क्लोवर और तेजी से बढ़ने वाली गेंहूँ /सरसों  की फसल के बीज धान  की पक रही फसल के बीच ही बिखेर दिए जाते हैं।
गेंहू या सरसों  और क्लोवर  के पौधे जब  एक-दो इंच उपर तक आ जातें हैं तब  तक चावल भी पक कर कटने योग्य हो जाता है। चावल की फसल काटते समय क्लोवर  और गेंहूँ  के नन्हे पौधे  किसानों के पैरों तले कुचले जाते हैं, लेकिन उन्हें फिर  से पनपने में ज्यादा समय नहीं लगता। धान  की गहाई पूरी हो जाने के बाद उसकी  पुआल को खेत पर फैला दिया जाता है।
यदि धान  शुरू बरसात  में सीधा बोया  गया हो और बीजों को ढंका न गया हो तो बीजों को अक्सर चूहे या परिंदे खा जाते हैं, या वे जमीन में ही सड़ जाते हैं। इससे बचने के लिए में धान  के बीजों को बोने से पहले मिट्टी की गोलियों में लपेट देता हूं। बीजों को एक टोकरी या चपटे बरतन में गोल-गोल और आगे-पीछे हिलाया जाता है। इसके बाद उन पर महीन क्ले मिट्टी  छिड़क दी जाती है, और बीच-बीच में उन पर पानी का ‘हल्का’ सा छिड़काव भी किया जाता है। इस के करीब आध इंच व्यास की गोलियां बन जाती हैं।
गोलियां बनाने का एक और तरीका भी है। पहलेधान के बीजों को कुछ घंटों तक पानी में  डुबो दिया जाता है। फिर  धान को गीली मिट्टी में हाथों या पैरों से गूंध् लिया जाता है। इसके बाद तार की मुर्गा जाली में से इस मिट्टी  को दबाकर छोटे-छोटे टुकड़ों में बदल दिया जाता है  को एक-दो दिनों तक थोड़ा सूखने दिया जाता है ताकि हथेलियों से उनकी गोलियां बनाई जा सकेें। सबसे अच्छा तो यह होगा कि हर गोली में एक ही बीज हो। एक दिन में इतनी गोलियां बन जाएंगी, जिनसे कई एकड़ में बुआई की हो सकती है।
परिस्थितियों के मुताबिक कभी-कभी मैं इन गोलियों को बोने के पहले उनमें अन्य अनाजों या सब्जियों के बीज भी रख देता हूं।
मध्य नवम्बर से मध्य दिसंबर के बीच कीअवधि  मैं धान  की बीजों वाली इन गोलियों को गेंहूँ या सरसों  की नई फसल के बीच बिखेर देता हूं। ये बीज बरसात  में भी बोए जा सकते हैं।
फसल को सड़ाने के लिए खेत पर कुक्कट खाद की एक पतली परत भी फैला दी जाती है। इस तरह पूरे साल की बोनी पूरी होती है।
मई में रबी  के अनाज की फसल काट ली जाती है। उसकी गहाई के बाद उसका पुआल भी खेत में बिखेर दिया जाता है।
इसके बाद खेत में एक हफ्रते या दस दिन तक पानी बना रहने दिया जाता है। इससे क्लोवर  और खरपतवार कमजोर पड़ जाती है, और चावल को गेंहूँ /सरसों की नरवाई  में से अंकुरित हो कर बाहर आने का मौका मिल जाता है। जून और जुलाई में बारिश का पानी ही पौधें के लिए पर्याप्त होता है। अगस्त महीने में खेतों में से ताजा पानी सिर्फ  बहाया जाता है, उसे वहां रुकने  नहीं दिया जाता है। ऐसा हफ्ते  में एक बार किया जाता है। इस समय तक  कटनी का समय हो जाता है।
 कुदरती तरीके  से  चावल और गेंहूँ / के अनाज की खेती का वार्षिक चक्र ऐसे चलता है। बोनी और कटनी का यह तरीका  इतने करीब से प्राकृतिक क्रम की नकल करता है कि उसे कोई कृषि तकनीक कहने की बजाए प्राकृतिक कहना ही उचित होगा।
चैथाई एकड़ के खेत में बीज बोने या पुआल फैलाने में किसान को एक या दो घंटे से ज्यादा का समय नहीं लगता। कटनी के काम को छोड़कर, गेंहूँ  की फसल को अकेला किसान भी मजे से उगा सकता है। एक खेत में चावल की खेती का जरूरी काम भी दो या तीन लोग ही परम्परागत जापानी औजारों की मदद से निपटा लेते हैं। अनाज उगाने की इससे सरल तरीका  और कोई नहीं हो सकता  है। इस तरीके से  बीज बोने तथा पुआल फैलाने के अलावा खास कुछ भी नहीं करना पड़ता, लेकिन इस सीधी -सादी तकनीक तक  पहुंचने में मुझे तीस बरस का समय लग गया।
खेती का यह तरीका जापान की प्राकृतिक स्थितियों के अनुसार विकसित हुआ है, लेकिन मैं सोचता हूं कि प्राकृतिक खेती को अन्य क्षेत्रों में अन्य देसी फसलें उगाने के लिए भी अपनाया जा सकता है। मसलन जिन इलाकों में पानी इतनी आसानी से उपलब्ध् नहीं होता, वहां पहाड़ी चावल, ज्वार, बाजरा या कुटकी को उगाया जा सकता है। वहां क्लोवर  की जगह अन्य दलहन  की किस्मों का जैसे  बरसीम ,रिजका ,मेथी  मोठ खेतों को ढंकने के लिए ज्यादा अच्छे उपयोगी साबित हो सकते हैं। प्राकृतिक कृषि उस इलाके की विशिष्ट परिस्थितियों के मुताबिक अपना अलग रूप धरण कर लेती है, जहां उसका उपयोग किया जा रहा हो।
इस प्रकार की खेती की शुरुवाद  करने से पूर्व कुछ थोड़ी निंदाई, छंटाई या खाद बनाने की जरूरत पड़ सकती है, लेकिन बाद में हर साल इसमें क्रमशः कमी लाई जा सकती है। आखिर में जाकर सबसे महत्वपूर्ण चीज कृषि
करने के सोच पर निर्भर है। 

ढेंचा में ऋषि खेती करते पंजाब के किसान मक्का Rra Aha U ll


ढेंचा में ऋषि खेती करते पंजाब के किसान
मक्का
Rra Aha U ll

ढेंचा  एक दाल जाती का पौधा होता है जो जमीन में जबरदस्त यूरिया बनाने का काम करता है। इसके ढकाव में मक्का की खेती करने से पहले साल ही बंपर उत्पादन लिया जा सकता है।  

ढेंचे के ढकाव को ट्रेक्टर चलाकर  कर सुलाया जा रहा है इसमें हाथों से मक्का के बीज गड़ा दिए जायेंगे। 
जुताई नहीं ,खाद नहीं ,दवाई नहीं 
इस कवर में सीड बॉल बिखरा कर भी सुलाया जा सकता है इस से वीड कन्ट्रोल और यूरिया दोनों का लाभ मिलेगा। 

Thursday, June 8, 2017

मूंग की खेती के बाद करें बिना जुताई धान की खेती

मूंग  खेती के बाद करें बिना जुताई धान की खेती 


धान में खरपतवार नियंत्रण 


न दिनों आपके खेत में मूंग की फसल पक रही है। उस को सुखाने के लिए जहर का छिड़काव इसलिए किया जाता है जिससे वह सूख जाये इस से उत्पादन  प्रभावित होता है साथ में फसल भी जहरीली हो जाती है।  मूंग में फलियां लगती रहती हैं पहले की फलियां पक  कर सूखने लगती हैं। इन्हे हाथों से तुड़वाने से उत्पादन अधिक मिलता है।

R A Ull जी  के खेत की मूंग 
दूसरा इसका यह फायदा रहता है की खेत मूंग के पौधों से ढंका रहता है। इसलिए उसमे आगे खरपतवारों की समस्या भी नहीं रहती है। इस ढकवान में बरसात आने पर मूंग उड़द और धान के बीजों को क्ले के साथ मिला कर गीली सीड बाल छिडकी जा सकती हैं।  जिस से हमे फिर से मिश्रित फसल मिल  जाएगी साथ में खेत में भरपूर कुदरती यूरिया भी मिल जायेगा जिसके सहारे गेंहूं की कुदरती फसल भी आसानी से ली जा सकती है।
गेंहूं की फसल के धान काट्ने से पहले ही खेत में गेंहूं के बीज छिड़क दिए जा सकते हैं। उनके जमने के बाद धान की फसल को काट कर धान को झाड़ कर पुआल को उगते हुए गेंहूं पर  फेंक दिया जाता है।

फ़ोटो: THE ONE STRAW REVOLUTION
I believe that a revolution can begin from this one strand of straw. Seen at a glance, this rice straw may appear light and insignificant. Hardly anyone would believe that it could start a revolution. But I have come to realize the weight and power of this straw. For me, this is revolution is very real.
एक तिनके से आई क्रांति. 
मेरे मानना है की धान के पुआल के एक तिनके से बहुत बड़े बदलाव की शुरुआत हो सकती है. देखने में ये तिनका बहुत छोटा सा और बेकार नजर आता है. किसी को भी  विश्वाश नहीं होगा की ये किसी क्रांति को जन्म दे सकता है. किन्तु मुझे इस तिनके की ताकत और छमता का आभास हो गया है. ये वास्तविक क्रांति है.
धान की पुआल से निकलते गेंहूं के नन्हे पौधे 
इस प्रकार की धान की खेती में पानी भरा नहीं जाता है वरन उसकी अच्छे से निकासी की जाती है जरूरत पड़ने पर नालियां बना ली जाती हैं।
   
फ़ोटो: RICE STRAW SCATTERED OVER GERMINATING WINTER CROP.
पानी की निकासी के लिए बांयी गयी नालियां 

Monday, June 5, 2017

बिना जुताई की खेती और बकरी पालन



बिना जुताई की खेती और बकरी पालन 


म पिछले करीब 50 सालो से खेती को आत्म निर्भर बनाने के उदेश्य से पशु पालन से जुड़े हैं। पहले हमने देशी किस्म की गायों के पालने का काम शुरू किया था साथ में कुछ भेंसे भी रखीं थीं। दूध को पास में लगी कॉलोनी में बेचने के लिए हम अपने कर्मचारियों को भेजते थे।  हमरा उदेश्य था की लोगों के पास शुद्ध कुदरती  दूध पहुँच जाये। लोग इस से बहुत खुश थे। उसका कारण यह है की शुद्ध दूध कोई बेचते नहीं है सब पानी मिलाकर दूध बेचते हैं।

ये वाकया उन दिनों का है जब हम जुताई कर देशी खेती किया करते थे। खेतों में बैलो से जुताई की जाती थी हमारा उदेश्य यह था की दूध से आमदनी होती रहेगी और गोबर की खाद से खेती होती रहेगी। कुछ समय ऐसा हुआ भी। उन दिनों हम पशुओं के लिए कुदरती चरोखर बचा कर रखते थे। जिसमे पशु चरते थे। दुधारू पशुओं को अलग से दाना दिया जाता था। जो कुदरती होता था।
फ़ोटो:
बरबरी जाती की बकरी साल में दो बार बच्चे देती है तीन बच्चे तक देती है
दो लीटर दूध भी देती है। 
किंतु यह तरीका अधिक दिन तक नहीं चल पाया हमे "हरित क्रांति " के चक्कर में फंस गए थे।  हमारे खेतों पर आधुनिक खेती के मेले  आयोजित होते थे। हाइब्रिड बीजों , रासायनिक उर्वरकों ,कीटनाशकों से खेती करना सिखाया जाता था। साथ में गोबर की खाद डालने को भी कहा  जाता था। शुरू में तो अच्छा उत्पादन मिला किन्तु मुनाफा नहीं था इस तरह हम करीब १५ साल आधुनिक वैज्ञानिक खेती में से जुड़े रहे।

इस दौर में हमने पशुपालन मे भी तब्दीली के साथ संकर नस्ल की गायों को  पालना शुरू कर दिया था। दूध का उत्पादन भी बहुत बढ़ गया था किन्तु मुनाफा नदारत था।  इसलिए हमे ऋषि खेती करने का निर्णय ले लिया और पांच साल हम पशु पालन से दूर रहे थे।  किन्तु दूध ऐसी जरूरत बन गया था हमे पुन : हमे पशु पलना पड़ा।
इस समय हमने देशी किस्म की भैंसों को पालना शुरू किया साथ में हमने चारे के लिए सुबबूल को भी लगाना शुरू कर दिया था। किन्तु सुबबूल का चारा भैंसों को कम पड़ता था इसलिए हम भैंस कम करते गए।आखिर में  एक भैंस रह गई थी इसी प्रकार एक गाय भी हमने पाल कर अनुभव किया जिसमे हमे निराशा हाथ लगी।
फ़ोटो:
सुबबूल के पेड़ों के साथ बकरीपालन सुबबूल की पत्तियों के साथ अलग से कुछ देने की जरूरत नहीं है।
बड़े जानवरों के साथ हरे चारे के लिए बड़े मैदान हो तब ठीक रहता है इसलिए करीब ५० साल में हमारा अनुभव गाय  भेंसो के साथ ठीक नहीं रहा था। हमेशा  हरे चारे और अनाज की कमी बनी रहती थी।   सं 1999 में हमारी मुलाक़ात जापान के हमारे ऋषि खेती के गुरु फुकुकाजी से हुई थी उन्होंने हमे सुबबूल के पेड़ों के साथ गायों को पालने की बात बताया था उनका कहना है की पशु पालन अपने पर्यवरण के अनुसार होना चाहिए।

अच्छे जंगल है तो हम हाथी  भी पाल सकते हैं नहीं तो क्रमश हमे जानवरों को कम और छोटा करने की जरूरत है।  हमने ऐसा ही किया एक गाय भी हम नहीं पाल पाए हमे बकरियों का पालन शुरू करना पड़ा। बकरी पालन हमे ठीक लगा। एक तो जब चाहें  हम बकरियों को कम कर सकते हैं।  दूसरा इनका दूध बहुत स्वादिस्ट और गुणकारी होता है। आर्थिक मुनाफे  भी यह कम नहीं है। यह हमारा एटीएम है।

जब हम जुताई नहींकरते हैं तो हमारे खेत असंख्य वनस्पतियों से भर जाते हैं।  बकरियां सभी वनस्पतियों को थोड़ा थोड़ खाती रहती हैं।  इस से खरपतवारों का नियंत्रण हो जाता है। इनकी मेंगनी खेतों में समानता के साथ अपने आप बिखरती जाती हैं जिनसे अनाज सब्जियों और फलदार पेड़ों को बहुत फायदा होता है।

जबकि गाय भैंसों के गोबर से बहुत गंदगी होती है उनको बड़ी सार में पालना पड़ता हैं जिन्हे गेंहू का भूसा और धान का पुआल देना और दाना देना बहुत दुखदायी रहता है। श्रम भी अधिक लगता है।
आज जबकि जुताई के कारण खेत मरुस्थ बन रहे हैं उन्हें सुधारने  के लिए  बकरीपालन अच्छा उपाय है।
यह आम के आम गुठली के दाम जैसा है।

इनका बाज़ार भी बहुत आसान है कुछ सड़क पर फेंकने की जरूरत नहीं है। यह खेती कर्ज ,अनुदान और मुआवजे से मुक्त है। 

Friday, June 2, 2017

गौ माता की आस्था

गौ माता की आस्था 


Image may contain: 3 people, horse, outdoor and natureभारत एक कृषि प्रधान देश है जिसमे पशु पालन जंगल खेती के कारण हम हजारों साल बचे रहे हैं।  टिकाऊ जीवन पद्धति में गाय का विशेष महत्व रहा है।  बेलों से जहां ऊर्जा मिलती थी वहीं गाय के दूध से स्वास्थ जुड़ा है। गोबर गोंजन को खेतों में खाद के लिए बहुत उपयोगी माना गया है।

यही कारण है आज भी हमारे देश में गाय को माता  मान कर उसकी पूजा होती है। प्राचीन देशी खेती किसानी हजारों साल टिकाऊ रही है। यह भारत की संस्कृति का आधार है।

किन्तु जबसे हमारे देश में गहरी जुताई रसायनो  और मशीनों से खेती का चलन शुरू हुआ है तब से हमारी संस्कृति और गौ माता की आस्था को भारी  धक्का लगा है। पहले हर किसान अपने घर में गाय को पालता था। गाय परिवार के सदस्य की तरह रहती थी। उसकी परवरिश भी माँ  की तरह की जाती थी। किन्तु अब लोग खेती किसानी से हट  कर शहरों में रहने लगे हैं जहां गायों को पालने की सुविधा नहीं है इसलिए लोग गोशालाओं पर निर्भर हो गए हैं।  पहले हर गाँव में चरोखर हुआ करते थे। गाँव में खुद के जंगल होते थे।  जहां दिन भर पशु कुदरती चारा चरते चरते थे। इसलिए उनका दूध कुदरती स्वास्थवर्धक होता था।

अब गौशालाओं में गायों को मुनाफे के लिए पाला जाता है।  उन्हें गैर  कुदरती आहार जैसे यूरिया का अनाज और भूसा ,पुआल खाने को दिया जाता है। खुला चरने की स्वतंत्रता नहीं है। गायों के बच्चों को भी पैदा होते मार दिया जाता है उनका मुखौटा बना कर गायों का दूध लगाया जाता है। इसके लिए गायों को ऑक्सीटोसीन के इंजेक्शन दिए जाते हैं जो बहुत जहरीले होते हैं इस से दूध भी जहरीला हो जाता है। अधिक से अधिक दूध मिले इसलिए अनेक प्रकार की दवाइयां गायों को दी जाती हैं। इसलिए अब गाय के दूध से भी कैंसर हो जाने का खतरा हो गया है।

खेतों में जुताई होने के कारण कुदरती घास  का एक तिनका नहीं रहने दिया जाता है। सारे  चरोखर और निजी जंगल अब जुताई के अनाजों के खेत बन गए हैं। यही कारण  है की अब गौमाता की तस्वीर लगाकर पूजा होती है। खेती किसानी से जुडी आस्था अब नहीं रही है।

अनेक लोग इस आस्था को अपने मतलब के लिए भुनाने  का काम कर रहे हैं। वो लोग गोबर और गौ मूत्र की दवाइयां बना  कर बेचने लगे हैं। अनेक कृषि वैज्ञानिक भी अब इस आस्था के नाम से अनेक प्रकार जैविक खेती की पद्धतियां बेच रहे हैं। किन्तु वे कुदरती चरोखरों और जंगलों को बचाने के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं।

हम पिछले 30 सालो से अधिक समय से बिना जुताई की कुदरती खेती कर रहे हैं जिसमे पशु पालन भी जुड़ा है
हम चारे के लिए सुबबूल के पेड़ लगाते हैं। सुबबूल की पत्तियों में हाई प्रोटीन है।  यह उत्तम चारा है इसके जड़ें खेत में कुदरती यूरिया बनाने का काम करती हैं जिनके सहारे गेंहूं चावल की खेती भी आधुनिक खेती से अच्छी हो जाती है। कुदरती हरे और सूखे चारे की कोई कमी नहीं रहती है। कोई भी दुधारू पशु सुबबूल के सहारे  आसानी से पल जाता है।

किन्तु यह तभी संभव जब हम बिना जुताई ,बिना खाद और बिना मानव निर्मित दवाइयों  का उपयोग करें।
सुबबूल पेड़ है इसलिए पेड़ों से मिलने वाले सभी फायदे भी मिलते रहते हैं। अनाजों  की फसलों में आधुनिक  खेती के बराबर उत्पादन मिलता है वहीं सुबबूल से चारा ,लकड़ी और पशुओं की आमदनी से करीब एक लाख रूपये प्रति एकड़ आमदनी अतिरिक्त है। 

Thursday, June 1, 2017

सुबबूल के बीजों का सीड बॉल बनाना

सुबबूल के बीजों का सीड बाल बनाना 


सुबबूल एक द्विदल जाती का पेड़ है इसलिए यह जमीन से जितना ऊपर रहता है अपनी छाया के छेत्र में नत्रजन (यूरिया ) सप्लाय करने  का काम करता है। यह फसलों को गर्म और ठंडी हवा से बचाता है। फसलों पर लगने वाले रोगों से बचाव करता  है। बरसात को लाता है बरसात के पानी को संग्रहित कर भूमिगत जल के स्तर को बढ़ाता है।  इसकी पत्तियां हाई प्रोटीन चारे से युक्त रहती हैं। दुधारू पशु इसे चाव से खाते  हैं।  इस से साल भर हरा चारा मिलता है।  इस पेड़ की खासियत यह है कि यह बहुत तेजी से बढ़ता है। जितना काटो उतना तेजी से पनपकर फिर जैसा की तैसा हो जाता है।

इसकी लकड़ी इमरती और जलाऊ के लिए बहुत उपयोगी है। इसके साथ गेंहू और चावल की बिना जुताई  ,खाद और दवाइयों की उन्नत खेती भी हो जाती है।

इसको उगाने के लिए शुरू में सीड बॉल बना कर फैलाना सबसे अच्छा रहता है। इसके लिए हमे क्ले (कपा ) चाहिए यह सामन्यत: तालाब के नीचे जब पानी सूख जाता है मिलता है। यह नदी नालों के किनारे पर भी मिलता है। यह जंगलों और खेतों से बह कर वहां इकट्ठा होता है। यह मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए उपयोगी है। इसको परखने के लिए एक सीड बाल बनाकर उसे पानी में डाल कर रखने से वह  घुलती नहीं है।

इस मिट्टी को साफ़ कर बारीक कर  लिया जाता है इसके साथ बीजों का करीब 1 :7 के हिसाब से मिक्सर बना कर आटे की तरह गूथ लिया जाता है।मिट्टी  गूँथी हुई मिट्टी कर्री होना चाहिए यानी जब हम अपने कान के नीचे लटकने वाले भाग को पकड़ते हैं उतनी कर्री होना चाहिए।

इसके बाद हाथों से करीब १/२ इंच व्यास की गोलियां बना ली जाती है


Wednesday, May 31, 2017

सीड बॉल क्रांति



सीड बॉल क्रांति 


1999 में जापान के ख्याति प्राप्त कृषि वैज्ञानिक एवं कुदरती खेती के प्रणेता श्री स्व मस्नोबू फुकुओकाजी गाँधी आश्रम सेवाग्राम में पधारे थे। उन्हें वहां एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में आमंत्रित किया था। इस की जानकारी मुझे मेरे मित्र जेकब नेलिथेनम ने दी मै  सीधे वहां पहुँच गया। जब हम वहां पहुंचे फुकुओकाजी अपनी टीम के साथ मीटिंग हाल के बाहर कुर्सी लगाकर बैठे थे उनके साथ श्री मकीनो अनुवादक ,दो लड़कियां और एक वीडियो ग्राफर भी थे। हाल के अंदर भाषण चल रहे थे जो उन्हें पसंद नहीं थे इसलिए वो बाहर पोस्टर आदि लगाकर बैठे थे। किन्तु अफ़सोस की बात उन्हें सुनने के लिए वहां कोई नहीं था।

मै और जेकब उनके पास सीढ़ियों पर बैठ गए थे। इस से 10 साल पहले वे हमारे फार्म पर पधार चुके थे। हम सन 84 -85 से कुदरती खेती का अभ्यास कर रहे थे उन्होंने हमे पहचान लिया। फिर क्या था हमारे बीच संवाद शुरू हो गया। मकीनो जी हिंदी  में अनुवाद करने लगे।  देखते देखते अनेक लोग उनकी बांतो को सुनने के लिए के लिए इकठे होने लगे भीड़ इकठा होने लगी। हाल के अंदर के लोग भी भाषण छोड़ कर बाहर आ गए।

वो बता रहे थे की पिछले अनेक सालो से वो नेचरल फार्मिंग कर रहे हैं अनेक किताबें उन्होंने लिखी हैं अनेक बार अख़बार में और मेगज़ीनो में उनके लेख छपे हैं। अभी यहां आने से पहले में तंजानिया गया था वहां पांच साल पहले भी में गया था। वहां बहुत भयंकर सूखा पड़ा था वहां बरसात होना भी बंद हो गई थी।

Image may contain: 1 person, sitting and childपहले वहां घने जंगल थे किन्तु जुताई और रसायनो पर आधारित खेती के आने से सारे जंगल नस्ट हो गए थे। खान ,पानी और पशुओं के लिए चारा भी नहीं था। गंभीर  संकट पैदा हो गया था। दुनिया भर से समाज सेवक वहां जा रहे थे पर कुछ नहीं हो रहा था। उन्होंने बताया की वो ऐसे दूर दराज  के इलाके में में गए  जहाँ पहले कोई नहीं गया था।

वहां कुछ लोग बिना जुताई करे हाथों से बीजों को गड़ा  कर खेती कर जैसे तैसे गुजर कर रहे थे।वहां उन्होंने लोगों को सीड बॉल बनाना सिखाया दुर्भाग्य से वहां क्ले मिट्टी नहीं मिली पर दीमक की मिट्टी बहुत थी उस से सीड बॉल बनाई  गयी। मरता क्या नहीं करता बच्चा बच्चा सीड बॉल बनाकर गुलेल से  सीड बाल बनाकर फेंकने लगा। जब दुबारा फुकुओका जी ५ साल बाद वहां गए तो दंग रह गए बहुत बड़ा इलाका हरियाली से ढक गया था। जहां बरसात नहीं होती थी वहां बरसात होने लगी पशुओं के लिए चारा खाने को अनाज सब उपलब्ध था।
Image may contain: 7 people, people sitting, child and indoor


फुकुओकाजी ने बताया कि "जुताई वाली खेती "के कारण पनपते रेगिस्तानों को थामने  के लिए सीड बाल सब से सरल सस्ता उपाय है। इसमें हरियाली का विज्ञान और दर्शन  छुपा है।