Monday, October 6, 2014

शर्मनाक बयान

शर्मनाक बयान 

वन्य प्राणी संरक्षण सप्ताह 


"सांप को हाथ लगाना तो दूर बच्चों को इनके पास भी नहीं जाने दें "
वन विभाग 

देश इन दिनों पर्यावरण के गंभीर संकट से गुजर रहा है इस लिए वन्य प्राणियों का  संरक्षण किया जा रहा है।    शेर ,हाथी सहित असंख्य लुप्त प्राय : प्राणियों का  संरक्षण जरूरी है। किन्तु जब दैनिक भास्कर जैसा जिम्मेवार अखबार ये कहे इनके पास न जाएँ।  तो इसे क्या कहा जायेगा ? यह बहुत ही शर्मनाक बयान है।  बच्चों को वन्य प्राणियों की संरक्षण की भावना तब  पैदा होगी जब उनके मन से उस डर  को दूर किया जाये।  हम अनेक सालो से ऋषि  खेती कर रहे हैं सांप को अपना दोस्त मानते हैं। सांप अनेक मायनो में बहुत लाभ प्रद रहते हैं इसी लिए इनकी पूजा की जाती है। जिस सांप को यहाँ दिखाया गया है वह जहरीला नहीं है। इन्हे हम पालते हैं इन से  आंतंक नहीं रहता है।  भास्कर को गलत बयानी का खंडन छापना चाहिए।
राजू टाइटस
ऋषि खेती फार्म ,होशंगाबाद

1 comment:

Raju Titus said...

असल में हमारी शिक्षा ही गलत दिशा में जा रही है जिसमे हमे अंधरे ,सांप , शेर ,जंगल के प्रति नफरत और डर पैदा कर दिया है। सांप अनावशयक किसी को काटता नहीं हैं। जब सांप को आदमी का डर हो जाता है तो वह अपने बचाव में काट देता है अन्यथा वह भी सुरक्षा चाहता है। इस का सत्य घटना को देखें http://rishikheti.blogspot.com/2012/02/blog-post_6743.html